8 अगस्त 2009

सिर्फ़ तुम ....!!!

तेरे साथ जीना नहीं ये तय कर लिया ,

लो हमने तुम्हारा शहर भी छोड़ दिया ,

दूर तेरे शहरसे जाकर एक नया घर बना लिया ,

हाथ हम भी किसी और का थाम ले ये दिल हुआ ,

पर ये हो न सका ,

पर ये हो ना सका क्योंकि

दूर तो गया हमारा जिस्म ,दूर बसा हमारा जिस्म ,

पर हमारी रूह तो तुम्हारे पास रह गई ,

तुमने तो भुला दिया हमें इस कदर पर

फ़िर भी तुम्हे ख्वाबमें मिलने की आस रह गई .....

तुम्हारी बेवफाई पर कसीदे पढने भी चाहे ,

कागज़ दवात तैयार भी कर लिए ,

पर हम लिख न पाए ,

पर हम ये लिख ना पाए कलमसे ...

क्योंकि हमसे बेवफाई हो न सकी ........

1 टिप्पणी:

  1. पर हम लिख न पाए ,

    पर हम ये लिख ना पाए कलमसे ...

    क्योंकि हमसे बेवफाई हो न सकी ........
    wahi baat hai,ishq mein dua hi nikli tere liye bewafa.bahutgehre jazbat,sunder.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...