2 अगस्त 2009

ये दोस्ती ....

आज दोस्ती दिवस है ...

हम इतने मशरूफ हो गए है की हम दोस्ती जैसे हर पल साथ रहने वाले एहसास को भी साल के एक दिन सुपुर्द कर चले है ..भौतिकवाद की चरमसीमा ये मनाने वाले दिन की लिस्ट को देखकर ही समजमें आ जाती है ...

कुछ अरसे पहले मैंने इस जगह एक लघुकथा लिखी थी : मिस्ड कोल .....अगर आज मैं आपको ये कहूँ की ये कोई काल्पनिक कथा नहीं थी तो ? हाँ ,ये सच है की ये काल्पनिक कथा नहीं है ..एक अंत को छोड़कर इस की सभी घटनाएँ मेरे जीवनमें सचमें ही घट चुकी है ...नाम बदले है पर वो एक मैंने जिया यथार्थ ही है ..यहाँ तक की उसमें लिखे संवाद भी वही है जो हमने बोले थे ....

दोस्तीको उम्र -रूप -रंग -फासले -करीबी किसीसे वास्ता नहीं होता ...आज भी ये पोस्ट लिखने से पहले मैंने वो सभी मेरी नन्ही दोस्तोको एक और मिस्ड कोल कर दिया ...मेरा सबसे छोटा दोस्त ६ साल का है ...राहील ...मेरे घरके नीचे ही रहता है ...वो मुझे आंटी नहीं अपनी बेस्ट फ्रेंड कहता है ...अपनी नोट बुक में मिला हर स्टार मुझे दिखाकर एक चोकलेट वसूल करता है ...स्कुल में जो इनाम मिलता है अपने पिताजी की गाड़ी से उतरकर सीधा मुझे दिखाने चला आता है ...अपनी छोटी छोटी बातें मुझसे शेर करता है ...

पिछले साल उसका पुरा फेमिली वडोदरा से हमेशा के लिए अहमदाबाद चला गया था ...वहां पर सेटल होने ही गए थे ...उस घड़ी अकेले में मैंने खूब रोया करती थी ...लगता था मुझसे मेरी जिंदगी का एक हिस्सा कट गया ...उसके जनमदिवस पर उसने मुझसे चोकलेट ही मांगी ..फोन पर ...जब एक दिन मिलने आया तो लेकर गया बड़े हक़ से ...

तीन महीने के बाद कुछ ऐसा हुआ की उन्होंने अपना निर्णय बदला और फ़िर एक बार वे लोग वडोदरा लौट कर आ गए ...इसे हम क्या कहेंगे ...हमारी ये मासूम दोस्ती का ये पल भी मैंने खुशी के आंसू बहाकर ही सहला लिया ....

मेरे बचपन की सब सहेली तो दुसरे शहरमें बस गई है ...उनकी याद आज खूब आ रही है ....ये इन्टरनेट की दुनियाने मुझे कितने दोस्तसे मिलवाया है जिन्हें कभी मिली नहीं और शायद मिलूंगी भी नहीं फ़िर भी उनकी मेरे जीवन में एक खास जगह है ....

आप सबको एक गुजारिश है ...अपने दोस्तों को एक पल के लिए जरूर याद कर लो ...उनके गिले शिकवे झगडे भी आज बहुत मीठे लगेंगे ...ये वो रिश्ता है जो हमने ख़ुद चुना है ...रूठों को मना लो , बिछडे दोस्तों को मिला दो ...अपनी दोस्ती का फ़र्ज़ निभा लो ...आज एक रोते हुए को हंसा दो ....एक नया दोस्त बना लो .....

5 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...