19 जुलाई 2009

आज तुझे कहती हूँ जिंदगी ...

चलते चलते कदम कुछ देर रुक गए

रुक कर पीछे मुड कर देखा तो

जवानीकी हँसी यादें थी और बचपनकी अठखेलियाँ भी ,

मैं मुस्कुराकर आगे चलता गया नए मकाम तक .......

=================================

जिंदगी चलने का नाम है

हम रुक जाए वो तो चलती रहती है ,

घड़ी बिगड़ जाए तो वक्त नहीं रुकता ,

सहर से शाम का सफर तो चलता ही रहा है ......

3 टिप्‍पणियां:

  1. sahi...zindgee chalti rahti hai...peeche chhodh jaati hai boht si khatti meethhi yadein.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. घड़ी बिगड़ जाए तो वक्त नहीं रुकता ,
    ==
    सही कहा है हमे वक्त के साथ चलना ही होगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. घड़ी बिगड़ जाए तो वक्त नहीं रुकता ,

    सहर से शाम का सफर तो चलता ही रहा है ......
    sahi farmaya,waqt kaha ruka hai kisike liye,subhah se shaam hoti hi hai.bahut khub.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...