21 अप्रैल 2009

चलो हंस भी लेते है कभी ऐसे ही ...

ट्राईसिकल पर सवार होकर ,निखर गया बाइसिकलका प्यार ॥

बाइसिकलकी नजर मिली एक मोटरसे ,

तो मोटर साइकल बन उडी हवा पर होकर सवार .........

गोवाके ट्राफिकसिग्नल पर नजर लड़ गयी

उसकी एक पुरानी शेवरोलेट गाडी से ,

एक नदीमें दोनों चल दिए वो बोटमें होकर सवार ..........

उड़ते एरोप्लेन के पहिये पर बांध झुला मैं हवा खा रही थी कुछ देर के लिए ,

ब्रेक लगे पायलटने तो मैं गयी समुन्दर के अन्दर ,

सब मरीन के अन्दर से मछली से बात कर रही हूँ अभी .......

बाहर आकर बताती हूँ सफ़रका अफसाना ,

ये तुक्का आया तब जब हुआ साइकलमें हुआ था मेरी पंक्चर ........

6 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...