15 अप्रैल 2009

अकेलेमें यूँ मुस्करा दिए .....

आपके हाथोमें मैंने अपनी तक़दीरको पढ़ा ,
आंखोंमें देखी आपकी किसी और की थी तस्वीर ......

आपके ख़यालमें कुछ ये आलम था
अकेलेमें हम मुस्कुरा रहे थे .......

आपसे मिलकर क्या बातें करूँ ?
खयालोंमें कितनी गुफ्तगू कर चुके है आपसे ??!!

न कोई वजह है ,न मंजिल की तलाश
क्यों फ़िर बाँध जाती है आपसे मिलने की आस ???

न मिल पाएंगे अब कभी किसी मोड़ पर
तय था ये फ़िर भी इस पल में क्यों जीना चाहा ??

उम्रभरका साथ तो न मांग सके हम
बस इस पलमें पूरी उम्रको जिन्दा कर लिया .......

3 टिप्‍पणियां:

  1. उम्रभरका साथ तो न मांग सके हम
    बस इस पलमें पूरी उम्रको जिन्दा कर लिया
    waah preeti ji aaj to dil ke kareeb utar di aapne rachana,behad sunder ,bhav bhari.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...