2 अप्रैल 2009

जिंदगी से मिलो

शुभ्र सुमन पर बैठी एक तितली ,

जैसे जिंदगी को जिंदगी थी चूम रही ......

============================

आकाश और धरती का दूर क्षितिज पर मिलना ,

चंद रूपों के टुकडोमें सुखी होने का एक भ्रम .....

===============================

तितलियोंको युनिफोर्म पहनाया ,

फूलोंको स्कुलबैग थमाया ,

देखो देखो हमने इस दुनियाको

डिसिप्लिनमें रहना सिखाया .........

===========================

5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ्र सुमन पर बैठी एक तितली ,

    जैसे जिंदगी को जिंदगी थी चूम रही
    waah bahut sunder

    उत्तर देंहटाएं
  2. तितलियोंको युनिफोर्म पहनाया ,
    फूलोंको स्कुलबैग थमाया "

    बेहतर सोच । रचना रुचिकर लगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...