16 मार्च 2009

तलाश फ़िर जारी है ......

खुशियों का पता पूछ रहे थे हम फिजाओंसे ,
सूखे कुछ पत्ते आकर बिखर गए बहती हवाओंसे .....
==============================
जिंदगीका खास होना एक आम बात हो जाती ,
तुम जो रुक जाते जिंदगीमें तो ये जिंदगी सौगात हो जाती .........
=======================================
कुछ कहना कुछ सुनना ये सिलसिला बना था ,
अचानक छाई खामोशी तब बातें तुम्हारी तडपाने लगी ........
=======================================
तुम्हारी खामोशीने कुछ ऐसा हमें तडपा दिया ,
कोसा हमने अपने आपको क्यों हमने तुम्हे न बोलने की कसम दी थी ???....
=======================================

7 टिप्‍पणियां:

  1. Hello
    It has a nice blog.
    Sorry not write more, but my English is bad writing.
    A hug from my country, Portugal

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुशियों का पता पूछ रहे थे हम फिजाओंसे ,
    सूखे कुछ पत्ते आकर बिखर गए बहती हवाओंसे .....

    waah !
    sookhe pattoN ke zikr ne iss sher ko
    jaandaar bna diya hai....
    aapki qalam ko salaam...
    aur...khaamoshi wala sher bhi lajwaab hai.
    badhaaee. . . . .
    ---MUFLIS---

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगीका खास होना एक आम बात हो जाती ,
    तुम जो रुक जाते जिंदगीमें तो ये जिंदगी सौगात हो जाती .........


    बहुत शानदार प्रीती जी ..आभार !!!!!

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...