13 फ़रवरी 2009

प्यार के मौसम में आज फ़िर ...

कहते है सच्चा प्यार किस्मतवालोको मिलता है ,

चलो इस बार प्यार के लिए इस किस्मतको आजमाया जाए .....

=========================================

खिले हुए फूलोंमें बहारका नजारा कर लिया ,

गुजरते हुए राहों पर हमसफ़रका इंतज़ार कर लिया ,

बड़ी ही शिद्दतसे चाहते हुए हमने भी प्यार कर लिया ,

जिन्हें ख्वाबोंमें देखा था आज उनसे प्यार का इज़हार भी कर लिया ......

===============================================

बरसातकी बूंदे कुछ जमीं थी उस चेहरे पर ,

लगता था जैसे औस सज रही थी गुलाब पर ,

बसंत के इस दिलकश मौसममें बस कुछ ऐसा कर जाऊं ,

जिंदगी बनी हो तुम तो तुमसे एक बार जी भर के प्यार निसार कर जाऊं .....

===============================================

उल्फतमें हमने एक सपनोंकी दुनियाको सजा रखा है ,

कुछ नाजुक कांच सा दिल सीनेमें छुपा रखा रखा है ,

चलो आज आपकी खिदमतमें ये दिलका नजराना पेश हो जाए ,

दुआ करते है रबसे उनको भी हमसे प्यार हो जाए .......

=========================================

देखा था तुम्हे ख्वाबोंमें ,चाहा था तुम्हे , माँगा था तुम्हे रबसे ,

दीदार किया है आज जो चाहत है मेरी ,पर आज कुछ मांगना नहीं ,

तुम्हारी निगाहों के आयने में अक्स देखा जो हमारा ,

शर्मोहया के परदे हटा कर कहते है दिलोजानसे तुम्हे प्यार करते है ......

===========================================

4 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...