13 फ़रवरी 2009

प्यार के मौसम में आज फ़िर ...

कहते है सच्चा प्यार किस्मतवालोको मिलता है ,

चलो इस बार प्यार के लिए इस किस्मतको आजमाया जाए .....

=========================================

खिले हुए फूलोंमें बहारका नजारा कर लिया ,

गुजरते हुए राहों पर हमसफ़रका इंतज़ार कर लिया ,

बड़ी ही शिद्दतसे चाहते हुए हमने भी प्यार कर लिया ,

जिन्हें ख्वाबोंमें देखा था आज उनसे प्यार का इज़हार भी कर लिया ......

===============================================

बरसातकी बूंदे कुछ जमीं थी उस चेहरे पर ,

लगता था जैसे औस सज रही थी गुलाब पर ,

बसंत के इस दिलकश मौसममें बस कुछ ऐसा कर जाऊं ,

जिंदगी बनी हो तुम तो तुमसे एक बार जी भर के प्यार निसार कर जाऊं .....

===============================================

उल्फतमें हमने एक सपनोंकी दुनियाको सजा रखा है ,

कुछ नाजुक कांच सा दिल सीनेमें छुपा रखा रखा है ,

चलो आज आपकी खिदमतमें ये दिलका नजराना पेश हो जाए ,

दुआ करते है रबसे उनको भी हमसे प्यार हो जाए .......

=========================================

देखा था तुम्हे ख्वाबोंमें ,चाहा था तुम्हे , माँगा था तुम्हे रबसे ,

दीदार किया है आज जो चाहत है मेरी ,पर आज कुछ मांगना नहीं ,

तुम्हारी निगाहों के आयने में अक्स देखा जो हमारा ,

शर्मोहया के परदे हटा कर कहते है दिलोजानसे तुम्हे प्यार करते है ......

===========================================

4 टिप्‍पणियां:

  1. aare waah aaj to gulab khile hai khushiyon ke,bahut sundar ,valentine ki happy happy day hamare aur se aapke liye.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमसफ़रका इंतज़ार कर लिया ,बड़ी ही शिद्दतसे चाहते हुए हमने ....

    in panktiyo me aapki kavita kaa saar mujhe lga..bahut sundar,
    badhai

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...