10 फ़रवरी 2009

और ऐसा मकाम था .........



एक रात थी ,एक चाँद था ,

वो साथ था और मैं अकेली रह गई ....


एक इब्तदा थी ,एक मकाम था ,

चलने की ख्वाहिश थी और मैं रुक गई ...


एक आरजू थी ,एक कशिश थी ,

हसरतोंकी शमा जली और मैंने आँख मूँद ली ......


एक चाहत थी ,एक आस थी ,एक प्यास थी ,

करीब हमारे उल्फत थी पर मेरे लिए नायाब क्यों हो गई ???????

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...