19 जनवरी 2009

मैं एक सपना हूँ.....



मैं सपना हूँ ॥

जो तुम्हारी आँखोंने देखा था हरदम ...

तुम खुशनसीब हो ...

तुम्हारे सपने जो साकार हो गए है ...

मैं सपना पनपता हूँ दिल के आंगनमें ...

मैं महत्वाकांक्षा हूँ ...

जिसने अभी बसेरा बना लिया है ,

तुम्हारी आँखों में अभी ....

मेरी चकाचौंध ने तुम्हे चकित कर दिया है ,

अपनी और आकर्षित किया है ,

और मैं पनपती हूँ दिमाग के मैदानमें ...


आ गए हो अब दोराहे पर तुम ,

मैं इधर जाऊं या उधर जाऊं ?


सपना आत्मा की आवाज है ...

जो कभी गुमराह नहीं करती ....

महत्वाकांक्षा दिमाग से निकलती है ...

जो आत्मा पर छा जाती है ....


सोचो अब ॥!!!

साकार हुए सपनों को सहेजना है ....

या चकाचौंध महत्वाकांक्षाकी रौशनी में गूम हो जाना है ...??

5 टिप्‍पणियां:

  1. sapna ...sapna...sapna kaun hai ye sapna....shayad aap achha bata payen ya yu kahu ki achha bataya sapne ke baare main....but main aapni kahun to i believe in present....???
    but sapne achhe hote hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सोचो अब ॥!!!

    साकार हुए सपनों को सहेजना है ....

    या चकाचौंध महत्वाकांक्षाकी रौशनी में गूम हो जाना है ...??

    क्‍या बात कही है....बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Waah ! Bahut bahut sundar !

    shabd bhaav abhivyakti,sab lajawaab !

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...