7 जनवरी 2009

वही पल जिंदगी जीने की वजह बन जाए



जिक्र हुआ जब रिश्तोंका, हमें रिश्तोंकी वह भीड याद आ गयी,
भरी हुई महेफिलमें कहकहे थे जिंदगीके, तब हमें अपनी तनहाई याद आ गई,
उम्मीदें नजर आयी हमारी तरफ उठी हर नजरमें हमसे ,
कहीं कभी बढे हमारे उम्मीदोंसे कभी तो हमसे छुडाई हर उंगली याद आ गई.......

=====================================================
न उम्मीद किसीसे करो, दिल टूटनेकी वजह ही न रहेगी,
अनजान हो जब राहें आपकी, गुम होनेकी वजह भी वह सह लेगी....
तब अगर एक अनजान हाथ बढे, आपके सामने बस पलभरके लिये ही सही,
थाम लो उसे हंसकर उस पल, शायद वही पल जिंदगी जीनेकी वजह बन जाये...........
=======================================================

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...