3 अप्रैल 2010

एक कसक ...

कांच का पयमाना ये भी खाली था ,

पर तुम्हारी नज़रसे छलक गया ...

पीते रहे हम ,जीते रहे हम ,बस पीते ही गए ,

ना मय ख़त्म हो रही थी और ना ही जाम थक रहा था ...

======================================

सितारों के आगोश में लिपट कर

औससे भीगी चादरों पर

सपनोंको पीने का मौसम है ये

बस एक ही डर है की कहीं प्यार ना हो जाए !!!!!!!!!!!

====================================

नश्तर चुभोना हमारे दिल पर बेरहमीसे

एक हलकी सी मुस्कान छोड़ जाता है होठों पर

इस ख्यालसे भी की करीब होते हो आप हमारे

एक पल के लिए पर खुद के वजूदको हम आपसे जोड़ पाते है ...

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...