27 मार्च 2010

ये मतलब ...

मैं राधा हूँ या मीरा

ये नहीं मालूम मुझे ...

मैं तो जान पाई बस इतना ही

मेरे आराध्य तो बस कृष्ण ही ..........

=================================

मिलन या विरह मायने नहीं रखे कभी मेरे लिए ,

मिलने की यादें बिरहमें बहला गयी मुझे वैसे ही

जैसे तुम मेरे पास ही हो ......

==================================

कहाँ जान पाए हम प्यार का मतलब ....

मिलने पर जान नहीं पाए कुछ भी

जुदाईने भी रुला दिया ...

बस देख लेते एक पल की हम तो दिल में रहे थे हरदम

तो ये गिले शिकवे होते कहाँ ?????

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...