1 मार्च 2013

कल आईने में देखा था तुझे

कल आईने  में देखा था तुझे ,
मेरे सपने दुल्हनका जोड़ा पहनकर
मुखातिब हुए थे मेरी आँखोंमें ,
और शरमा रहे थे पलकोंकी चिलमनमें ......
============================================
रात चाँद बैठा इंतज़ार कर रहा था मुंडेर पर ,
वो बेखबर सोते रहे थे सपनोंकी रजाई ओढ़कर ....
============================================
चलो आज उन्हें हालेदिल कह देते है ये सोचकर बैठे रहे ,
ना उनका इस गली से गुजरना हुआ ,न मिलन का बहाना ....
============================================
कोई आकर रोज मेरे दिल पर दस्तक दे कर चला जाता है ,
और मैं घरके किवाड़ खोलकर निगाहोंसे ढूंढता रहता हूँ ....

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (02-03-2013) के चर्चा मंच 1172 पर भी होगी. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सम्मानित कवियत्री प्रीती टेलर जी | सुन्दर भाव अभिव्यक्तियों की झलकियों के लिए शुभकानाएं | संभवतः टंकण की त्रुटी की वजह से आईने की जगह आयने छप गया है कृपया सुधार लें |

    उत्तर देंहटाएं
  3. चलो आज उन्हें हालेदिल कह देते है ये सोचकर बैठे रहे ,
    ना उनका इस गली से गुजरना हुआ ,न मिलन का बहाना ....

    खूबसूरत शेर, बेहतरीन प्रस्तुति. बधाई प्रीति.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...