25 नवंबर 2012

जिंदगी मेरी एक जश्न है...

दावतें होगी मेरे जनाजे की बाद भी ,
जिंदगी मेरी एक जश्न है ,
खलिश रही दर के बाहर खड़ी हरदम ,
मेरे लिए तो मौत भी एक जश्न ही होगी .....
===================================
कातिलाना अदाएं बना गयी मुझे काफिराना ,
तुझसे अलग सूरत खुदाकी सोच ही न पाए फिर ....
====================================
पाना तुझे अगर इश्क का मुकम्मिल होता तो
तुझे पाने की तमन्ना भी जहनमें न करते हम ,
हमने तेरे दिलकी किताबके हर सफे पर ,
कोई गैरका नाम पढ़ लिया था ......
=========================================
कोई तमन्ना लेकर ,जुस्तजू पालकर जीना नहीं रास आया ,
उसे पूरा करने में एक हंसी जिंदगी निकल जाती है ,
वो जो सामने आ जाते है मंज़र कितने हंसी फिर भी ,
उसकी तलाशमें बस उम्र गुजर जाती है ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...