22 नवंबर 2012

तेरे और मेरे अक्स ........

ना कोई आरजूके हुजूम थे ,
न कोई ख्वाहिशोके बवंडर ....
बस तकती दो आँखोंमें तैरते थे ....
तेरे और मेरे अक्स ........
=======================================
कुछ कहने की बात तो थी ,
पर वो कहनेका वक्त का इंतज़ार था ...
आज कल कहते गुजर गए कितने साल ,
वो अनकही बात बस तुम्हे संजो कर रख गयी दिलमे .....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...