22 जून 2012

तुम तो एक हकीकत हो ...

एक नश्तर चुभोकर चली गयी रात सीनेमें ,
एक टीसकी गूंज भी उठी पर लहू न निकला .....
=============================================
कोई कहींसे पुकारकर छुप जाता है मेरा नाम लेकर ,
और वो आवाज हवामें एक तस्वीर छोड़ जाती है ,
वो चेहरा न देखा कभी ख्वाबोमें भी
पर उनसे नाता है जन्मोजन्मका ये गवाही देकर जाती है ...
=============================================
मेरी वफ़ाका सबब कैसे दे दे इस दुनिया को ,
मुझे मेरी वफाके ऐलानसे ज्यादा उसकी बदनामीका खौफ है ....
=============================================
तेरी तस्वीर बनाकर रातके केनवास पर
हररोज हम हमारेदिनमें उजाला भरते है ....
=============================================
कहते है शिद्दतसे देखे ख्वाबकी ताबीर हो जाती है ,
पर तुम्हे ख्वाब नहीं समजा हमने क्योंकि तुम तो एक हकीकत हो ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...