31 अक्तूबर 2011

यूँ चलोगे साथ ????????

बदली हुई नज़र 
बदल गया हर नज़ारा ...
नया वक्त 
नए पल 
नयी खुशबू 
नया ख्याल ...
नए सपने ...
नयी हर बात है ....
खुद तो बदली नहीं कभी 
फिर भी शायद बदले हुए हालात है ....
फिर करवट लेता वक्त 
फिर थमा हुआ लम्हा ...
फिर दिल बेक़रार ...
फिर उसे मिलने का इंतज़ार ...
फिर बस मैं और तुम और ये पल ....
फिर एक सवाल ...
मेरे साथ मेरा हाथ थामे यूँ चलोगे साथ ????????

1 टिप्पणी:

  1. फिर एक सवाल ...
    मेरे साथ मेरा हाथ थामे यूँ चलोगे साथ ????????बहुत ही अच्छी अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...