6 अक्तूबर 2011

बस यूँही अचानक !!!!

क्यों एक अधूरी तस्वीरसी बन जाती है जिंदगी ,
बैठे हो जब लहराती बहारोंके बीच 
फिर भी वो अचानक वो बंज़रसी नज़र आती है 
 फूलोंके कारवां के बीच ???? बस यूँही अचानक !!!!

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...