7 अक्तूबर 2011

ख़ामोशी को समजो....

आज मेरी ख़ामोशी को समजो,
आज मेरी तन्हाई को समजो ,
आज मुझसे ज्यादा तुम खुद को समजो ...
देखो मैं तुम्हारे खयालोमें हरदम हूँ तुम्हारे साथ ही ,
बस आँखें बंद करके तुम खुदमे समाई हुई मुझको समजो .....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...