17 सितंबर 2011

आजकल ......

आजकल धूप भी टुकड़ोमें बिखरकर मिलती है ,
जैसे वो जिंदगीकी हमशक्ल होने के दावे करती है ...
जब किसीको मिलने को दिल तड़प जाता है ,
उसे ही वो आपकी जिंदगीसे गायब कर देती है ....
शायद इसे जिंदगी का षड्यंत्र समजने की भूल हो गयी ,
एय जिंदगी तुने तो मुझे किसीके बगैर भी जीना सिखा दिया है ...
किसीका एहसान है इस जिंदगी पर उसे चुकाना जब चाहा
 उसी इंसानको नहीं पाया तब किसी अनजानको मदद करके भूल गए है .... 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...