7 सितंबर 2011

ढलती सांजसे..


ढलती सांजसे नींदसे जागती सहर तक
रात अपना दामन फैलाकर चली आती है ...
उजालोंको अपने दामनमें गहरी नींद सुलाती है
नींदका कहाँ वास्ता होता है इन गहरी काली रातोंसे ??
सपनोमें देखी हर दास्ताँ नींद रातको सुनाती है ....
और रातकी खुबसूरत चेहरेको देखने के लिए ,
चाँद सितारे रोशन होकर उसे उजागर करते है .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...