12 अगस्त 2011

एक भीगी भीगी सड़क ...



एक तनहासी सड़क


काली काली ...और थोड़ी काली हो चुकी है .....


बरसातमें नहाती हुई


ना पिघलती ना इठलाती हुई ,


बस नहा धोकर चुपचाप जगी जगी फिर भी सोई सी ....


उसमे अक्स नज़र आता है आज कल ये मकान का


ये चली हुई बिल्ली का ,भौंकते हुए कुत्ते का ,


इंसानके कदमोके निशाँ नहीं पुरे इंसान का साथ चलता अक्स उसका .....


दोनों साथ साथ एक सीधा एक उल्टा ....


एक अक्स भीगी सड़क पर साथ चलता मेरे .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...