24 जुलाई 2011

देखे !!!!!

चलो आज इस राह अकेले ही चलकर देखे ,
तनहाईके इस मंज़रसे अकेले ही गुजरकर देखे ,
गुमशुदा होने के लिए नयी डगर चलकर देखे ,
भीड़में जब मिले तनहाई तो
तनहाईमें खुदके साथ चलकर देखें ?????
क्यों करें किसीसे उम्मीद हमारा हाथ पकड़कर साथ चले !!!
चलो हम भी किसीका दामन थाम
उसका सहारा बनकर देखे !!!!
कहते है बहुत गहरे होते है ख़ामोशीके अँधेरे ,
चलो आज उसमे तुमको तलाशकर देखे !!!
आँखोंके आगे आती रही हरदम तस्वीर उसीकी ,
चलो आज उससे नज़र मिलाकर तो देखे !!!!
जिसके बगैर जीना हो ना गवारा ,
उसे जाते हुए रोकनेके लिए आवाज लगाकर देखें !!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...