9 जून 2011

जाने भी दो यारो

मुझे जरुरत है आज वातानुकूलित प्यार की ................
खानेमें मेगी नुडल्ससे पेट भरना चलेगा ,
रोटीका बनना महीनेमें एक बार भी चलेगा ,
पर घरमें बड़े सोफे होने जरुरी है
नींद उसमे सो कर ना आये तो चलेगा ......
मिलती है हर चीज आज किश्तों पर यारो ,
प्यार यार ना मिले तो चलेगा ....
लड़के की तनख्वाह होनी चाहिए छ आंकड़ोमें
चरित्रमें थोडा ढीला ढाला हो तो चलेगा ....
सासू साले को संभालना जरुरी है यारो लाखोके दहेज़ के बाद ,
माँ बाप भाई बहेनसे मुंह मोड़ लेंगे तो चलेगा ......
लोग तो बी एम् डब्ल्यू कार को देखकर इम्प्रेस होते है ,
घरमें कल के लिए राशन नहीं होगा तो भी चलेगा ....
क्रेडिट कार्ड पर मुहैया है अब तो सभी बाज़ार में ,
बेंकमें उतना बेलेंस नहीं होगा तो चलेगा ......
करोडपति के लिस्ट में नाम है ये बहुत बड़ी बात है यार ,
इंसानियतके नाम पर एक धब्बा भी हो तो चलेगा .....

4 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल सही बात है। आजकल दिखावे का ही जमाना है। "दिखाने के लिए कुछ भी करेगा"

    उत्तर देंहटाएं
  2. लड़के की तनख्वाह होनी चाहिए छ आंकड़ोमें
    चरित्रमें थोडा ढीला ढाला हो तो चलेगा ....
    सासू साले को संभालना जरुरी है यारो लाखोके दहेज़ के बाद ,
    माँ बाप भाई बहेनसे मुंह मोड़ लेंगे तो चलेगा ......

    bhuat sundar rachna

    vikasgarg23.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...