5 अप्रैल 2011

अब कोई फ़िक्र नहीं ....

अब कोई फ़िक्र नहीं ,
गमका भी जिक्र नहीं ,
साथ तुम्हारा एक दिलासा दे गया ,
मत डरना तुम किसीसे भी ,
कोई और भी है
जिसने कन्धा अपना थमाया
और कहा हौले से ,
अब थोडा दिल हल्का कर दो ,
ग़मोंको आंसू बनाकर बहा दो ,
देखो होठोकी चौखट पर बैठी है
वो छोटी सी हँसी
उसे भी बाहर आने दो ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...