12 मार्च 2011

काफी था ....

बहार का इंतज़ार हमें तब तक रहा
बस तेरे आने का पयगाम ही काफी था ....
हयाके अंदाज़ को कैसे बयां कर पाएंगे ??
तेरी पलकोंकी चिलमन झुक जाना मेरे लिए काफी था ....
प्यास के एहसास क्या है ये नहीं जाना हमने
तेरे बंद किवाड़ोंको तकते रहना ही काफी था ....
चाँदको नहीं देखा कभी आसमांमें उड़ते हुए ,
तेरे चेहरे का दीदार करना मेरे लिए तो काफी था ....
जिन्दा रहते है इन आती जाती साँसोंसे ये सुना था ,
पर तेरे खयालके आते मेरे दिल का धडकना ही काफी था ....
इश्कको समजने की जुर्रत कैसे करें हम ?
तेरा नाम ही लेना काफी था ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...