13 मार्च 2011

हमकदम

चलो आज कुछ कदम साथ चले ,
चलो आज एक हवाको साँसोंमें भरे ,
चलो आज एक नज़रसे मंजिलको देखे ,
चलो आज एक दृष्टिसे एकदुसरे को सोचे ,
चलो आज फिर एक गाना गुनगुनाये ,
चलो आज फिर एक लम्बी ख़ामोशी पाए ,
चलो आज फिर खुली छत के नीचे सो जाए ,
एक कहानी सुने जो सारी रात सितारें हमें सुनाये ,
जीवन साथी बन तो जाते है हमसफ़र ,
एक बस इतनी सी इल्तजा है हमारी
आज हमकदम हमसोच बनकर जी जाए ....
कल सहर शायद ये रास्ता जुदा हो जाए तो भी गम नहीं ,
हमारी यादोंमें इस दिनमें हम साथ साथ खो जाए ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...