28 फ़रवरी 2011

खुली आँख का ख्वाब ...

एक कोरे सफे पर कुछ एहसास बिखर जाए ,
दिल कहे कुछ खामोश निगाहें अफसाने बन जाए ,
झख्म कुछ पुराने फिर उभरते जाए ,
उसकी टीसमें फिर तुम्हारा नाम सुनते जाए ........
कहीं गुमशुदासी शाम दूज के चाँदसी मुस्कुरा जाए ,
उस मुस्कराहट लिए वो गुलाबकी पंखडियोंसे लब दिख जाए ,
घूँघटमें अधढका तुम्हारे चेहरे का चाँद ,
मेरे जीवन की हर सुबह रोशन कर जाए ....
तुम्हारे तसव्वुरकी तड़प लिए
पलक भी झपकना भूल चुकी हो जब ,
तुम्हारे क़दमोंकी आह्टभर से ,
मेरा बेजान बना दिल फिर से धड़क जाए .....

1 टिप्पणी:

  1. बहुत ही सुंदरता से अपने कल्पनाओं को शब्दों मे गढ़ा है...लाजवाब।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...