23 फ़रवरी 2011

नाराज़ है आज ...

उस नदी की लहरें किरन को बहा कर ले गयी ,
क्या हुआ सितम उस पर के सात रंग के टुकड़ोंमें काट कर ले गयी ???
कल सूरज भी लेगा जवाब उस नदी से ,
तो कहेगी नदी रास्ता रोक रही थी मेरा
तो मैं उसे भी सागरसे मिलाने को ले गयी .....
थोडा सब्र तो करो ,
जब सागर तुम्हे बादलोका तोहफा देगा तुम्हे ,
तुम उस किरन को पा लेना ...
ख़ुशी से नाचेगा पानी भी उस किरन से
तुम मेघधनु का हार खुद पर सजा लेना ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...