9 सितंबर 2010

क्यों ??

भीगे कपड़ो में भी तन कोरा ही रहा ,
भीड़में भी ये दिल तनहा ही रहा ,
प्यार के फुल तो खिले थे इस बाहरमें भी ,
बस उसकी खुशबूसे क्यों मेरा ही मन कोरा रहा ????

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...