26 मई 2010

कभी कभी तुम्ही

कभी खामोश रहकर ,

कभी नज़रें उठाकर ,

कभी नज़रें झुकाकर

कभी हवामें बहती खुश्बूसे

कभी उड़ते हुए एक सूखे पत्ते की तरह

कभी इंतज़ार की शमामें जलते हुए

कभी मिलनके पलों में भीगते हुए

कभी नगमों को बोलोंको घोलकर

कभी ख़ामोशी की लहरोंमें सदा की तरह

कभी भीड़ में भी तनहाईके आलमको सजाकर

कभी अकेले में यादों की भीड़ लगाकर

मेरी जिंदगीमें क्यों समां गए हो तुम इस कदर ??????

जैसे चल रही हो तुम्हीसे हमारी साँसे .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...