21 दिसंबर 2009

फ़िर एक सुबह

फ़िर एक सुबह के इंतजारमें

ये दिल बेकरार हो चला

रातभर नींद न आई और

सवेरेकी तलाशमें एक और सफर तय हो चला ....

कल सवेरे आएगा सूरज

अरमानोकी डोली में बिठाकर सपनो को मेरे ,

बस बादल घिर आए और सूरज ढँक गया ,

शायद सूरज नहीं तो क्या इसका उजाला ही काफ़ी है

तलाशे मंजिल के और मक़ाम बाकी है ....

2 टिप्‍पणियां:

  1. फ़िर एक सुबह के इंतजारमें

    ये दिल बेकरार हो चला

    रातभर नींद न आई और

    सवेरेकी तलाशमें एक और सफर तय हो चला ....


    एक सुन्दर अह्सास...

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...