8 अक्तूबर 2009

चाँद और मैं ....


कल सपने तैर रहे थे मेरी बंद होती पलकों पर रातमें ,

खिड़कीसे चौथ का चाँद झांक रहा था ....

मुस्कराहटका कोई न कोई राज तो होगा ही ,

पूछा नहीं क्योंकि तैरते सपने बह जाने का डर था ,

गर जबां खुल जाती पल भर के लिए भी .....

चाँदसे बातें की है कभी आपने भी ?

रातकी तनहाई बांटते हुए सितारोंसे ,

वो कभी कभी अकेला ही रह जाता है ,

बादलकी चुनरमें छुपकर चुपके सो रो जाता है ......

कल रात ऐसी ही ठंडक थी समांमें एक बार फ़िर से ,

तैरते सपनों की तादाद बढ़ गई और वह बहने लगे फिजामें ,

चाँदके पास एक सपना पहुँच गया और चाँद हंस पड़ा ......

3 टिप्‍पणियां:

  1. कल रात ऐसी ही ठंडक थी समांमें एक बार फ़िर से ,

    तैरते सपनों की तादाद बढ़ गई और वह बहने लगे फिजामें ,

    चाँदके पास एक सपना पहुँच गया और चाँद हंस पड़ा ......
    chand ki muskan liye sunder rachana.badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. http://dilkashshayri.blogspot.com/
    Enjoyyyy

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...