16 सितंबर 2009

हाथ की लकीर में लिखा

हाथकी लकीरों पर कल निगाह गई ...

बचपनसे साथ रही है शायद जन्मसे ही है .....

कहते है इस रेखामें मुकद्दर छुपा होता है .....

रेखोमें नहीं लकीरों में नहीं मुकद्दर नहीं होता ,

जो होता है वो तो हमारे हाथमें ही होता है ,

पैरों का साथ होता है और तक़दीर बदल जाती है ,

पर अपनी मायूसी को ,बेबसी को ,नाकामी को

कोसने का कोई बहाना चाहिए होता है

तब अय हाथ की लकीरों हम तुम्हे दोषी बता देते है .....

इस लकीर में ही पढ़ा था हमने तुमसे मिलना है ,

इसी लकीर में लिखा था हमें जुदा भी होना है ....

तुम्हारे मिलने पर हम यूँ हुए गूम की

जुदा होना पढ़ ना पाए थे और दोषी किस्मत को बताये थे .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. पर अपनी मायूसी को ,बेबसी को ,नाकामी को

    कोसने का कोई बहाना चाहिए होता है

    तब अय हाथ की लकीरों हम तुम्हे दोषी बता देते है .....
    bahut sahi kaha,apni galati hum kismat ya lakiron ke mathhe madh dete hai,shayad khud ko console karne ki koshish karte hai...bahut khub

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो होता है वो तो हमारे हाथमें ही होता है ,

    पैरों का साथ होता है और तक़दीर बदल जाती है ,

    बहुत सुन्दर कविता हैं प्रीति जी

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...