6 सितंबर 2009

मशरूफ है हम .....

दीवारों पर जम रही थी दिमतकी लकीरें !!!!

क्या घर मेरा इतना पुराना होने लगा है ?

या लगता है इसे मेरी जरूरत नहीं लग रही है ,

या फ़िर मेरे लिए ये ठिकाना ना रहा है !!!!

दुनियाभर की ख्वाहिशो के पोटले को लाद कर पीठ पर ,

दर ब दर घुमने से फुर्सत कहाँ हुई है हासिल दो पल की कभी !!!

ये घर कहाँ रहा है मेरा ये तो रैन बसेरा हो कर रह गया है ......

बच्चे तो सोये से ही मिलते है हरदम ,बीबी का चेहरा भी थका सा देखा है ......

तलाश तो करनी है उन फुर्सत के लम्हों की

चाह भी है दिमत से दीवार को आजाद करने की ,

बच्चोको खिलौने और बीबी को साड़ी दिलवानी है ...

कल फुर्सत नहीं मिलेगी मुझे अब तो अगले रविवार का इंतज़ार रहा है .....

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...