2 सितंबर 2009

उम्मीद

कल मिलने की उम्मीदमें एक शाम ढल जाती है ,

आज तो कुछ कर नहीं पाये तो बात कल पर चली जाती है ,

अगले पल की जिंदगी कोई भरोसा नहीं होता ,

पर ख्वाहिशों के पड़ाव के मकाम पाने की उम्मीद उम्रसे भी लम्बी हो जाती है ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...