2 मई 2009

क्या ..उफ़ ये मोहब्बत !!!

नजाकतसे आपकी ये फूल क्यों शरमाया ?

ये क्या इल्म है इस हुस्नका जो चाँद ने भी करम फ़रमाया ?

गुजारिश करके देख ली आज आपके दीदार करके कलमको

क्या ये बेपनाह हुस्न शब्दोमें कैद कर पायेगी ?????

=======================================

मोहब्बत करते वक्त न पूछा इस नाचीज़ दिल को कभी ,

दिलका जब मिलना हुआ तो दिल खो जाने का ख़याल न रहा ,

निशान आपके कदमके ढूँढता फ़िर रहा हूँ यूँ गलियोंमें रहगुजरमें ,

तस्वीर आप ही की रहती है हरदम आंखोंके सामने

हो कभी उठती सुबह या ढलती शाम ही क्यों न हो !!!!

क्या इसे प्यार कहते है ? ये तो नहीं मालूम ...

बस इतना ही पता है जब सामना होता है आपसे

दीदार होता है आपका वही मेरी सहर होती है .....

3 टिप्‍पणियां:

  1. ACHHE KHAYAALAAT LIKHE HAI AAPNE... BADHAAYEE SWIKAAREN...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हो कभी उठती सुबह या ढलती शाम ही क्यों न हो !!!!

    क्या इसे प्यार कहते है ? ये तो नहीं मालूम ...

    बस इतना ही पता है जब सामना होता है आपसे

    दीदार होता है आपका वही मेरी सहर होती है .....

    behad khubsurat ehsaas waah

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...