4 अप्रैल 2009

दिल !!!

गुस्ताख दिल है हमारा ,

तुम्हारी निगाहों को पढ़ न पाया ,

छुपा था इकरार मोहब्बत का इनकारमें भी ,

दिल ये नादाँ समज न पाया .....

===============================

महोब्बत पर मिलन या जुदाई की कोई शर्त नहीं हुआ करती ,

मिलन होता नहीं हर इश्क की दास्तां का अंजाम ,

पर इतिहास के सफे पर लिखी गई हर दास्तां ,

अमर हो गई जो जुदाई के अंजाम पर ख़त्म हुई थी .......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...