24 दिसंबर 2008

आयना कह दूँ दोस्त .......

वह एक आवाज है ,

जिसका कोई चेहरा नहीं है ,

सुनती हूँ उसे ,

कल्पना पर कोई पहरा नहीं ,

जहनमें एक तस्वीर बनाकर रखी है ...

उससे एक दिन मिलना है ये दिल चाहता है ,

पर फ़िर भी मिलने की चाहत नही ....

बस उसे जिंदा रहना है हमारे ख्वाब में ही हमेशा ,

तसव्वुर की कोई ख्वाहिश नहीं है ....

मिलते है जैसे बरसोंसे ,

जानकर अनजान बने हम जैसे अजनबीसे ,

इस रिश्ते को क्या नाम दे हम ?

जिसमे रिश्ता होते हुए भी कोई रिश्ता ही नहीं ...

एक कशिश ,एक प्रेरणा ,एक जूनून ,एक ख्वाहिश ,

जिसकी तलाश है एक मंजिल ,

एक चेहरा ,एक ख्वाब ,एक प्यार, एक बंदगी ,

तेरा नाम मुझे देना है आयना जिसे में कह दूँ दोस्त !!!!!!!!!

1 टिप्पणी:

  1. खूबसूरत ख्यालों का मुजाहरा किया है आपने अपनी इस रचना में. लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...