26 अक्तूबर 2015

सुर्ख नूर प्यारका …




आज आसमानी कागज़ पर मैंने लिखा 
चाँद  ....... 
और दिन शरमाकर चल दिया और हुई 
शाम  …
लाल चुनर ओढ़े हुए हथेली  के छोर पर था 
सुनहरा चाँद  ....... 
छोड़ा करते थे जैसे कश्तियाँ पानीमें वैसे ही 
नजाकतसे  
उसने आसमानी कागज़ में छोड़ा तैरने 
चाँद को  …
रात भी बड़ी सयानी निकली उसने चुनर ओढ़ी 
सितारों वाली  ....... 
चाँद  रुपहली रोशनी में नहाने लगा और बिखरा 
सुर्ख शीतल 
 नूर प्यारका  …

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...