23 सितंबर 2013

मशरूफियत

बहुत मशरूफियत होगी तुम्हें   भी ,
पता नहीं याद आ रहे होंगे जो वादे किये !!!
आज फिर खिड़कीके बाहर वही नज़ारे ,
सूरजने आज रात बिखेरनी कोशिशें की ,
तुमने देखी क्या ??
रातने अपने निशाँ छोड़े है ,
दिन के पल्लू पर ,तुमने देखे क्या ??
आज वही बारिशें रूप बदल बदल कर बरसी है ,
पर वो रूमानियत की हवाएं न चली ,
शायद तुमने महसूस की हो !!!???
लगा बड़े से रेगिस्तान में खड़ा शायद
रास्ता हम तक आने का तलाशता रहा है दिन ,
और बादलों की भूलभुलैयामें गुमशुदा हो गया ,
तुम दूर हो , पर आज बादलों पर
तुम्हारे लिखे खतों पर से स्याही फ़ैल गयी सी ,
सारे अल्फाज़ बह बह कर गिर गए मेरे दामनमें ,
चलो अब उन्हें सहेज लूँ दोबारा ,
तुम्हारा वो पैगाम पढने की कोशिश कर लूँ ,
आज खो गया है दिन जो उसकी राह उजागर कर लूँ ,
जरा यादोकी मोमबत्ती जला लूँ !!!!!
रात भी थक चुकी है ज्यादा चलकर दिन भर ,
आज उसे भी लोरी गा कर सुला दूँ !!!!
बस आज यूँही तुम बहुत याद आये ,
इश्क न बरसा आसमान से ,
फिर भी तुम्हे भरकर गया है मेरी साँसोमे ...

1 टिप्पणी:

  1. आज बादलों पर
    तुम्हारे लिखे खतों पर से स्याही फ़ैल गयी सी ,
    सारे अल्फाज़ बह बह कर गिर गए मेरे दामनमें ,
    चलो अब उन्हें सहेज लूँ दोबारा ,
    तुम्हारा वो पैगाम पढने की कोशिश कर लूँ ,
    बहुत सुन्दर...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...