22 जुलाई 2013

तुम जब ना आए थे


तुम जब ना आए थे मेरी जिंदगीमें

कितना सुकून था सतह पर उसके तैरता हुआ ...

तुम बारिशके पानीकी तरह इस मिटटीमें घुले

बारिशकी बूंदों की तरह मुझमें समाते रहे ...

सतह पिघलती रही तुम्हारे ख्यालों की तपिशसे ...

अब ये तपिशकी धारा बन

किस और बह चलूं मैं ???

अब ये भी तुम ही मुझे बताते जाओ .......

जहाँ ढलान मिलती थी वहां बह चलती थी

जाना कहाँ नाम ना था था पता ही मेरे पास,,,

ये भी जिंदगीका खुबसूरत मंज़र था 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...