22 अप्रैल 2013

एय जिंदगी ...!!!!


एय जिंदगी ...!!!!
कल रात तेरे कूंचे से निकले थे हम ,
तू खिड़की पर कोहनी टिकाये हुए
आसमान को तक रही थी बस
तू भी क्या सितारोंकी चाल की मोहताज थी ??
या फिर कुछ खयालोमे गुमशुदा थी ???
तू देर रात तक जगती है ये मालूम न था ,
तेरी नींद उड़ जाए वो वजहका तार्रुफ़ न था ...
तेरी आँखोंमें उदासी न थी न ही कोई ख़ुशी भी ,
ये कौनसा मंज़र रहा होगा ये हमें मालूम न था ...
तेरा नाम लेकर पुकारा हमने
तुमने सुना की नहीं ये मालूम न था ....
तुम भी खुद से जुदा होकर जी लेती हो कभी यूँ भी ,
तेरे जीवनका ये पहलू शायद मुझे मालूम न था ...
तुम्हे भी किसी राह की तलाश हो ,
तुम्हे भी किसी बात की तलाश हो ,
तो तेरे पास हम करे क्यों सवालोंके जवाब ???
जो सवाल तुम ही हमारे सफे पर अधूरे छोड़ जाती हो ?????

3 टिप्‍पणियां:

  1. सच...क्यूँ करें जिंदगी से सवाल जवाब.....

    बहुत बढ़िया ..
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत शानदार और लाजवाब!!! आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...