7 नवंबर 2012

टिप टिप टिप...

खुद से खफा खफा से है हम ,
और दुनिया क्यों खुश नज़र आ रही है ????
या तो शामिल हो जाओ इस नज़ारेमें ,
या फिर अपनी आँखों को बंद कर लो .....
========================================
हम तो बैठे थे यूँ ही तन्हाईमें राह के किनारे पर ,
बस ये कमबख्त हवाएं थी जो जुल्फ उड़ाकर चली गयी ....
========================================
बिखरे गेसू की उल्ज़ीसी लटोंमें
रात चाँद एक नज़्म लिख गया होगा !!!!!
========================================
सितारोंको सुना है हर पता तुम्हारा पता था ,
पर नाराज़ थे वो मुझसे भी रास्ता भटका दिया .....
========================================
चाँदके अश्क गिर रहे थे टिप टिप टिप ,
रात के खुले हुए गेसू भीगते चले गए .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...