8 सितंबर 2012

अपना अक्स .....!!

एक दिन चाहतने इश्कके मायने पूछे हमसे ,
उसने हमारी आँखोंमें देख लिया  अपना अक्स .....!!
===========================================
कभी तन्हाईसे पूछा करो की बिना कोई साथी ,
कैसे कट रही है उम्र उसकी परछाईके साथ ???
===========================================
हाथ जब तक होता है किसीका अपने हाथोंमें ,
महफूज़ हो जाते है तपते रेगिस्तानोंमें ....
===========================================
काँटोंकी चुभन दरार बना देती है अश्कोंमें भी ,
लेकिन उससे भी इश्क ही जवां  होता रहा है ....
===========================================
तारीफ़से तार्रुफ़ हुआ था हमारा तुमसे मिलकर ,
अब इस आदतसे निजाद पानेके लिए तुमने कनारा कर लिया ????

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...