2 मई 2012

एक दुनिया होती है

उम्मीदोंसे परे भी एक दुनिया होती है ,
हकीकतोसे परे भी एक दास्ताँ होती है ,
कोई समज पाए या नहीं पर
 जिंदगी खुदमें एक अर्थ होती है ...
===================================
हम इंतजारमें वक्त जाया करते रह जाते है ,
मंजिलें रूकती नहीं कभी और फासले बढ़ जाते है ...
===================================
तुम्हे पाने का ये तो एक बहाना था ,
किसीसे मिलना नहीं था हमें इस गलीमें ,
न कोई पहचानवाला भी इधर रहता था ,
बस एक दीदारका लिया आसरा था ...
====================================
प्यार के घूंट पीकर तो सब जीते लेते है ,
हमने तो तेरी नफरतके साए में जिंदगी गुजार दी .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...