27 फ़रवरी 2012

महेफिल ए हाइकु ....

चाँदका मोम
पिघलता रहेगा
आज रातमें ....
===============
कोई निशानी
नज़र नहीं आती
फिर भी तू है .....
===============
न ही ज़ख्मको
कुरेदा कीजिये यूँ
लहू रिसेगा ....
===============
इंतज़ारकी
घड़ियोंसे गुजारा
वक्त शबका.......
===============
विरासत है
या है ये रिवायत ?
अदा ए हुस्न !!!!!!!
===============
खयालोंमें ये
चलते है  गुब्बार
तस्वीर बन ....
===============
तेरे दरकी
राहोंमें न थकन
ए मेरे यार .......


1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...