13 फ़रवरी 2012

ना आया मुझे

शब्द मिल जाए तो एहसासकी कीमत क्या होगी ??
धड़कन अगर कोई दिख जाए तो दिलकी आरजू क्या होगी ???
============================================
ना आया मुझे प्यार जताना कभी ,
काश  वो समज जाते है ये ख़ामोशी कभी ...
============================================
न वो कोई तस्वीर है ,न कोई नाम है लिखा रेत पर ,
न वो आखरी सांस है ,न कोई जगी हुई ख्वाहिश है ,
फिर भी ये क्यों है की सिर्फ एक दिनके लिए याद करू उसे   ???
अभी तो उसकी यादोंके साथ गुजारनेकी तमन्ना लिए एक जिंदगी बाकी है ......
==================================================
प्यार तो हर कोई देकर चला गया ,
क्या परख उसकी क्या सच और क्या जूठ...
बस दिलमें एक कसक जग जाती है उसकी यादमें 
जिसके दिलमे मेरे लिए एक नफ़रतका एहसास बाकी है .....
==================================================
प्यार का नाम कभी न आएगा इन लबों पर ,
उसे समजने के लिए उसे इसका मतलब समजना होगा पहले ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...