13 जनवरी 2012

आप सबको बहुत बहुत मुबारक हो ...!!!!!

मकरसंक्रातिका ये त्यौहार ,
ये पतंग
ये डोर
ये पतंग
ये मांजा,
ये पेच
ये काटा ...की चीखें ...
ये ऊँधिया
ये जलेबी
ये चिक्की
ये बेर ,जामफल और गन्ने
ये गोगल्स ,ये गाने ,ये घरकी छत ,ये पोम पोम ...
ये पटाखे का जश्न ....
ये दान धर्म का पर्व ...
ये धुप से प्यार करने का मौसम
ये नैनो के पेच लड़ाने का मौसम
ये सालका पहेला बड़ा त्यौहार !!!
ये लोहड़ी की आग
आप सबको बहुत बहुत मुबारक हो ...!!!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...